श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ | Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path In Hindi PDF

श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ | Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path in hindi pdf Free Download

श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ | Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path In Hindi PDF
लेखक / Writerअज्ञात / Unknown
पुस्तक का नाम / Name of Bookश्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ | Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path In Hindi PDF
पुस्तक की भाषा /  Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path  Book of Languageहिंदी / Hindi
पुस्तक का साइज़ / Book Size5 MB
कुल पृष्ठ / Total Pages222
श्रेणी / Category धार्मिक / Religious  , हिंदू / Hinduism , शिक्षा / Education
डाउनलोड / DownloadClick Here

आप सभी पाठकगण को बधाई हो, आप जो पुस्तक सर्च कर रहे हो आज आपको प्राप्त हो जायेगी हम ऐसी आशा करते है आप श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें | डाउनलोड लिंक निचे दिया गया है  , पुस्तकें डाउनलोड करने के बाद उसे आप अपने कंप्यूटर या मोबाईल में सेव कर सकते है , और सम्पूर्ण अध्ययन कर सकते है | हम आपके लिए आशा करते है कि आप अपने ज्ञान के सागर में बढ़ोतरी करते रहे , आपको हमारा यह प्रयास कैसा लगा हमें जरूर साझा कीजिये |

आप यह पुस्तक pdfbank.in पर निःशुल्क पढ़ें अथवा डाउनलोड करें

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path in hindi pdf Free Download श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड कर सकते हैं।

यहाँ क्लिक करें –   श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ  मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

पुस्तक स्रोत

पुस्तक का एक मशीनी अंश

खाना, सोना, डरना और कामब्रासना भादि मनुष्य और पशु दोनों ही का साधारण धर्म है, केवल धर्म ही,मजुप्य फी वि- शेपता ( आदामयत ) है धर्महीन मनुष्य पशु की समान’ है। एक धर्म ही सच्चा मिन्र है, क्योंक्रि-यह मरने के वाद भी | साथ जाता है, और सब ही देहका नाश होनेझे साथ २ नए हो नाते हैं, । परन्तु ध्यान के साथ देखाजाय तो जगत्‌ में सब के धर्म समान नहीं हैँ। श्रग्निका धर्म उष्णता है तो वरफ का धर्म शीतलता हैं।

सार बात यह है कि-पश्चु का धर्म चारो है और मनुप्पका व धर्म निहकि है| सब मनुष्यों के चित्र की उत्ति एकेसी नहीं होतीं है, सबका खभाव भी एफसा नहीं है। कोई भक्तिभाव में मरन है, कोई ज्ञान की ओर मुका हुआ हैं और फोई कर्मकाएड का हीं परम है। किसी को विज्ञान की चर्चा अच्छी लगती है, कोई दर्शन शास्र की चर्चा में प्रेम रखता है। ऐसे ही कोई गशितशांस् की, कोई सद्भीत की, कोई काव्य की और कोई पर्मशासत्र की चर्चा को भच्छा-सममता है।

आपको Shri Sanatandharma Shiksha Pratham Path In Hindi PDF / श्री सनातन धर्म शिक्षा प्रथम पाठ  मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करने में असुविधा हो रही है या इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो हमें मेल करे. आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली जानकारी पसंद आयी होगी यदि फिर भी कोई गलती आपको दिखती है या कोई सुझाव और सवाल आपके मन में होता है, तो आप हमे मेल के जरिये बता सकते हैं. हम पूरी कोशिश करेंगे आपको पूरी जानकारी देने की और आपके सुझावों के अनुसार काम करने की. धन्यवाद !!

%d bloggers like this: