समाजवाद PDF : श्री सम्पूर्णानन्द द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Samajwad : by Shree Sampurnanada Free Hindi PDF Book

समाजवाद PDF : श्री सम्पूर्णानन्द द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Samajwad : by Shree Sampurnanada Free Hindi PDF Book

समाजवाद,Samajwad,Shree Sampurnanada,श्री सम्पूर्णानन्द,Free Hindi PDF Book,मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक
लेखकश्री सम्पूर्णानन्द / Shree Sampurnanada
Samajwad Book Languageहिंदी / Hindi
पुस्तक का साइज़40.57 MB
कुल पृष्ठ343
श्रेणीसाहित्य / Literature

‘समम अजंति जनाः अस्मिन इति’ यह समाज शब्द का अर्थ है | जिसमे लोग मिलकर , एक साथ , एक गति से ,एक से चले वही समाज है | एक साथ या एकसे चलने का अर्थ फौजी सिपाहियों की भाँति किसी एक दिशा में कदम मिलाकर चलना नहीं है | तात्पर्य यह है की लोगोकी ,उन लोगोकी जो समाज के अंग हो परिस्थिति एक सी हो , उनके प्रयत्न और उद्देश्य एक से हो |

इसका यह अर्थ नहीं की लोग एक ही काम में लगे हो , ठीक एक ही खाना कहते हो , एक ही प्रकार का वस्त्र पहनते हो, हर बात में एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति का प्रतिक हो | ऐसा न तो संभव है , न उचित | पर यह संभव है कि सब लोगों के प्रयत्न एक दूसरे के प्रपूरक हो , अर्थात लोग भिन्न भिन्न कामों में लगे हो पर उन सब कामों के फलस्वरूप सबका कल्याण हो |

कोई भी इतना समर्थ नहीं है कि सभी काम कर सके परन्तु यह संभव है कि कामों का बॅटवारा इस प्रकार हो कि चाहे कोई भी किसी भी काम में लगा हो , इन सब कामों का एक मात्र परिणाम यहीं निकले की सबका भला हो | यह तभी संभव है जब की यह श्रम विभाग बुद्धि पूर्वक हो | सोच विचारकर यह निश्चय किया जाये

श्री सम्पूर्णानन्द

सम्पूर्ण जानकारी के लिए समाजवाद  मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

समाजवाद  मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

Book Source

आपको Samajwad Book PDF Free Download / समाजवाद मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करने में असुविधा हो रही है या इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो हमें मेल करे. आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली जानकारी पसंद आयी होगी यदि फिर भी कोई गलती आपको दिखती है या कोई सुझाव और सवाल आपके मन में होता है, तो आप हमे मेल के जरिये बता सकते हैं. हम पूरी कोशिश करेंगे आपको पूरी जानकारी देने की और आपके सुझावों के अनुसार काम करने की. धन्यवाद !!

Leave a Reply

%d bloggers like this: