| |

कामना PDF | Kamana PDF In Hindi

कामना PDF – Kamana PDF Free Download

कामना PDF | Kamana PDF In Hindi
लेखक / Writerजयशंकर प्रसाद / Jayshankar Prasad
पुस्तक का नाम / Name of Bookकामना / Kamana
पुस्तक की भाषा /   Kamana Book of Languageहिंदी / Hindi
पुस्तक का साइज़ / Book Size6.69 MB
कुल पृष्ठ / Total Pages162
श्रेणी / Categoryस्वास्थ्य / Health
डाउनलोड / DownloadClick Here

आप सभी पाठकगण को बधाई हो, आप जो पुस्तक सर्च कर रहे हो आज आपको प्राप्त हो जायेगी हम ऐसी आशा करते है आप कामना PDF डाउनलोड करें | डाउनलोड लिंक निचे दिया गया है  , पुस्तकें डाउनलोड करने के बाद उसे आप अपने कंप्यूटर या मोबाईल में सेव कर सकते है , और सम्पूर्ण अध्ययन कर सकते है | हम आपके लिए आशा करते है कि आप अपने ज्ञान के सागर में बढ़ोतरी करते रहे , आपको हमारा यह प्रयास कैसा लगा हमें जरूर साझा कीजिये |

आप यह पुस्तक pdfbank.in पर निःशुल्क पढ़ें अथवा डाउनलोड करें

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप कामना PDF / Kamana PDF  डाउनलोड कर सकते हैं।

यहाँ क्लिक करें –   कामना PDF डाउनलोड करें

पुस्तक स्रोत

कामना PDF पुस्तक का एक मशीनी अंश

पहला ह्श्य

स्थान–फ़ूलो का द्वीप, समुद्र का किनारा
( पक्ष की छाया में लेटी हुई कामना )

कामना–ऊषा के अपांग में लप्ारण की लाली है। दक्षिण-पवन शुश्र मेघमाला का: अंचल हटाने’ लगा । पृथ्वी के ग्रांगण में प्रभात टहल रहा है, क्या ही मधुर है; और संतोष भी मधुर है। विशाल…जलराशि के शीतल अंक से लिपटकर आया हुआ पवन इस द्वीप के निवासियों को कोई दूसरा संदेश नहीं सुनाता, केबल शांति का निरंतर संगीत सुनाया करता है। सन्तोष |

हृदय के समीप होने पर भी दूर है न्दुर है, केबल आलस के विश्राम का रूप्त दिखाता है। परन्तु अकमेसश्य सनन्‍तोष से मेरी पटेगी ? नहीं । इस समुद्र में इतना हाहाकार क्यो है ? उँह,ये कोमल पत्ते तो बहुत शीघ्र तितर-बितर हो जाते है | ( जिछे हुए पत्तों को बैठकर ठीक करती है ) यह लो,इन डालो से छनकर आई हुई किरणेंइस समय ठीक मेरी आँखों पर पड़गी । अब दूसरा खान ठीक करूँ, बिछावन छाया मे करूँ । ( पत्तों को दूसरी ओर बटोरती है ) घड़ी-भर चैन से बैठने मे सी मंकट है । (दो-चार फूल वृक्ष के चू पडते हैं–व्यस्त होकर बृक्ष की ओर सरोप देखने छूगती है )
£ तीन स्त्रियों का कलसी किये हुए प्रवेश )
१–क्यों बिगड़ रही हो कामना ?
२–किस पर क्रोध है कामना ?
३–कितनी देर से यहाँ हो कामना ?
कामना–(स्वगत) क्यों उत्तर दूँ ? सिर खाने
के लिए यहाँ भी सब पहुँची !
( सुँह रिरा छेती है और बोलती नहीं )

आपको कामना PDF / Kamana PDF डाउनलोड में असुविधा हो रही है या इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो हमें मेल करे. आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली जानकारी पसंद आयी होगी यदि फिर भी कोई गलती आपको दिखती है या कोई सुझाव और सवाल आपके मन में होता है, तो आप हमे मेल के जरिये बता सकते हैं. हम पूरी कोशिश करेंगे आपको पूरी जानकारी देने की और आपके सुझावों के अनुसार काम करने की. धन्यवाद !!

Similar Posts