हिंदी संकेत लिपि PDF : ऋषिलाल अग्रवाल द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Hindi Sanket Lipi (Rishi Pranali) PDF : by Rishilal Agrawal Free Hindi PDF Book

हिंदी संकेत लिपि PDF,Hindi Sanket Lipi PDF

हिंदी संकेत लिपि PDF | Hindi Sanket Lipi In Hindi PDF Book Free Download

हिंदी संकेत लिपि PDF | Hindi Sanket Lipi PDF in Hindi PDF डाउनलोड लिंक लेख में उपलब्ध है, download PDF of हिंदी संकेत लिपि

पुस्तक का नाम / Name of Bookहिंदी संकेत लिपि PDF / Hindi Sanket Lipi PDF
लेखक / Writerऋषिलाल अग्रवाल / Rishilal Agrawal
पुस्तक की भाषा /  Book by Languageहिंदी / Hindi
पुस्तक का साइज़ / Book by Size7.02 MB
कुल पृष्ठ / Total Pages314
पीडीऍफ़ श्रेणी / PDF Categoryसाहित्य / Literature
डाउनलोड / DownloadClick Here

आप सभी पाठकगण को बधाई हो, आप जो पुस्तक सर्च कर रहे हो आज आपको प्राप्त हो जायेगी हम ऐसी आशा करते है आप हिंदी संकेत लिपि शास्त्र  PDF मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें | डाउनलोड लिंक निचे दिया गया है  , PDF डाउनलोड करने के बाद उसे आप अपने कंप्यूटर या मोबाईल में सेव कर सकते है , और सम्पूर्ण अध्ययन कर सकते है | हम आपके लिए आशा करते है कि आप अपने ज्ञान के सागर में बढ़ोतरी करते रहे , आपको हमारा यह प्रयास कैसा लगा हमें जरूर साझा कीजिये |

आप यह पुस्तक pdfbank.in पर निःशुल्क पढ़ें अथवा डाउनलोड करें

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप Hindi Sanket Lipi PDF / हिंदी संकेत लिपि PDF डाउनलोड कर सकते हैं।

यहाँ क्लिक करें –  हिंदी संकेत लिपि PDF मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

पुस्तक स्रोत

हिंदी संकेत लिपि PDF | Hindi Sanket Lipi PDF in Hindi

हिंदी संकेत लिपि PDF पुस्तक का एक मशीनी अंश

यदि कोई संभव को असम्भव और असम्भव को संभव कर सकता है तो वह परमात्मा ही हैं। बगेर उनकी अलुमह या कृपा के क्रिसी काय का सुचारु-रूप से पूरा होना तो दूर रद्द उसका आरंध भी नहीं हो सकता। इसलिए कोटानिकोट घन्यवाद है उस परमपिता परमात्मा को जिसको हो असीम कृपा से आज मुझे इस “प्रस्तावता” को लिखने का अवसर मिंला है।

एक अच्च्री दिन्दी-शार्ट-हैंड प्रणाली का आविष्कार कर प्रचलित करने का विचार मेरे हृदय में पहले-पहल सन्‌ १६२२ ईं० में उठा था जब कि मैं “लीग ननरीमेंम्बरेंसर” के. दफ्तर में हेड-कलक के पद्‌ पर काम कर रहा था। उस समय अंग्रज़ी शा्ट-दैंड में मेशे अच्छी गति थी ओर निमी तोर पर कॉश्वित में बैठकर कोंसिज् के सदस्यों की स्पीचें भी लिखता था। में यह अक्सर सोचता था कि आखिर जब विदेशी आषा में दी हुईं वक्त ता कुछ नियमों के आधार पर सरलतापू्वक लिखी जा सकती है तो कोई वनह नहीं कि भरप्र-प्रयत्न किये जाने पर हिन्दी तथा डिंदुस्वानी भाषा में भो कोई ऐसी प्रणाली का आविष्कार न हो सके जिपके द्वारा हिन्दुस्तान- को मुख्य २ भाषाओं में दी गई वक्तताओं को लिखा अथवा पढ़ा जा सके | पर उस समय इस विचार को इस वजह से काय-रूप में परिणित न कर सका था कि पहले तो झुमेे समय कम था ओर दूसरे इसको माँग भी न थी ।

उस समय में सरकारी नोकरी में था और ययपि उससे मुझे आसदनी भी अच्छी थी परन्तु फिर भी व्यापार की तरफ अधिक क्ुकाव दोने के कारण में अक्सर यही सोचता था कि ऐसा कौन सा काम किया ज्ञाय जिससे नोऋुरी से पीछा छूटे। इसी समय हसारा दफ्तर इलाहाबाद से उठकर लखनऊ चला गया। लखनऊ मेरी बृद्धा माता जी को ” ज्ञरा भी पसंद न भआाया। उन्हें पुरय सल्षिज्ञा गंगा का तट छोड़कर लखनऊ में रहना बहुत ही कष्टकर प्रतीत हुआ। वह्द अक्सर कहती थीं कि भगवान ने अन्त में कहाँ से कहाँ लाकर पटका । इन सब बातों ने हमारे विचार ‘को और भी बदल दिया ओर हम ८ मद्दीने की छुट्टी लेकर इल्वाह्वाद लौट भआये ।

यह सन्‌ १६२४ की बात है। अब दम सोचने लगे कि क्‍या करना चाहिए जिससे लखनऊ न ॒त्ोटना पड़े। आखिर मुख्तारशिप और रेविन्यू- एजेन्टी को परीक्षा देने का निश्वय किया और इश्वर की कृपा से उसमें सफल्तता भी मिली परन्तु उस समय असहयोग आन्दोलन जोरों पर था और लोग अदालत का वहिष्कार कर रहे थे, इसलिए उधर भी जाना उचित न सममा। व्यवसाय की तरफ लड़कपन से द्वी कुकाव था, उसने फिर जोर मारा और इसी ससय एक घतिष्ट सम्बन्धी के कहने- सुनने से मैंने एक प्रेस की स्थापना की और दैेश्वर की कृपा से कुछ ही दिलों में यह प्रेस प्रान्त के अच्छे प्रेसों में गिना जाने लगा परन्तु अभाग्य या साग्यवश वहाँ से भी हटना पढ़ा। इसी समय हिंदी-शीघ्र-लिपि की पुकार सुनाई पड़ी, फिर क्या था, एक सरल-सुबोध तथा सचोक्ष पूण प्रणाली के आविष्कार में लग गया और उसके फल स्वरूप यह पुस्तक आपके सामने प्रस्तुत है।

आपको Hindi Sanket Lipi PDF / हिंदी संकेत लिपि PDF डाउनलोड करने में असुविधा हो रही है या इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो हमें मेल करे. आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली जानकारी पसंद आयी होगी यदि फिर भी कोई गलती आपको दिखती है या कोई सुझाव और सवाल आपके मन में होता है, तो आप हमे मेल के जरिये बता सकते हैं. हम पूरी कोशिश करेंगे आपको पूरी जानकारी देने की और आपके सुझावों के अनुसार काम करने की. धन्यवाद !!

%d bloggers like this: