भारतीय साहित्य शास्त्र PDF : गणेश त्रयंबक देशपांडे द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Bhartiya Sahitya Shastra : by Ganesh Trayanbak Deshpande Free Hindi PDF Book

भारतीय साहित्य शास्त्र PDF : गणेश त्रयंबक देशपांडे द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Bhartiya Sahitya Shastra : by Ganesh Trayanbak Deshpande Free Hindi PDF Book

भारतीय साहित्य शास्त्र,Bhartiya Sahitya Shastra ,Ganesh Trayanbak Deshpande
लेखकगणेश त्रयंबक देशपांडे / Ganesh Trayanbak Deshpande
Bhartiya Sahitya Shastra Book Languageहिंदी / Hindi
पुस्तक का साइज़36.18 MB
कुल पृष्ठ433
श्रेणीसाहित्य / Literature

भारतीय साहित्य

पूर्वार्द्ध

पहला अध्याय : विषय प्रवेश

दूसरा अध्याय : नाट्यशास्त्र में काव्य चर्चा

तीसरा अध्याय : काव्य चर्चा का स्वतंत्र संसार

चौथा अध्याय : काव्य चर्चा का नया संसार व नई अड़चनें

पाँचवा अध्याय : अलंकार शास्त्र का मार्गक्रमण

छठा अध्याय : शब्दार्थो का साहित्य

सातवाँ अध्याय : ममट के परवर्ती ग्रंथकार

आठवाँ अध्याय : साहित्यशास्त्र का विकास

उत्तरार्ध

नौवाँ अध्याय : काव्यशरीर शब्दार्थ विचार

दशवाँ अध्याय : वाच्यार्थ , वाचकशब्द और अभिधा

ग्यारहवाँ अध्याय : शब्दबोध लक्ष्यार्थ , लाक्षणिक शब्द और लक्षणा

बारहवाँ अध्याय : शब्दबोध व्यंजना व्यापार

तेरहवाँ अध्याय : व्यंग्यार्थ ( ध्वनि )

चौदहवाँ अध्याय : रसादिध्वनि

पन्द्रहवाँ अध्याय : रसप्रक्रिया

सोलहवाँ अध्याय : रसविषयक कुछ प्रश्न

सत्रहवाँ अध्याय : ध्वनि के विरोधक

अठारहवाँ अध्याय : गुणालंकार

गणेश त्रयंबक देशपांडे

सम्पूर्ण जानकारी के लिए भारतीय साहित्य शास्त्र  मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

भारतीय साहित्य शास्त्र  मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

Book Source

आपको Bhartiya Sahitya Shastra Download Free Hindi PDF Book / भारतीय साहित्य शास्त्र मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करने में असुविधा हो रही है या इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो हमें मेल करे. आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली जानकारी पसंद आयी होगी यदि फिर भी कोई गलती आपको दिखती है या कोई सुझाव और सवाल आपके मन में होता है, तो आप हमे मेल के जरिये बता सकते हैं. हम पूरी कोशिश करेंगे आपको पूरी जानकारी देने की और आपके सुझावों के अनुसार काम करने की. धन्यवाद !!

Leave a Reply

%d bloggers like this: