अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF : कालिदास द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Abhigyan Shakuntala Natak PDF : by Kalidas Free Hindi PDF Book

अभिज्ञान शकुन्तला नाटक | Abhigyan Shakuntala Natak PDF In Hindi

अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF | Abhigyan Shakuntala Natak PDF In Hindi Book Free Download

अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF | Abhigyan Shakuntala Natak PDF in Hindi PDF डाउनलोड लिंक लेख में उपलब्ध है, download PDF of अभिज्ञान शकुन्तला नाटक

पुस्तक का नाम / Name of Bookअभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF / Abhigyan Shakuntala Natak PDF
लेखक / Writerकालिदास / Kalidas
पुस्तक की भाषा /  Book by Languageहिंदी / Hindi
पुस्तक का साइज़ / Book by Size18.01 MB
कुल पृष्ठ / Total Pages262
पीडीऍफ़ श्रेणी / PDF Categoryनाटक/ Drama , साहित्य / Literature
डाउनलोड / DownloadClick Here

आप सभी पाठकगण को बधाई हो, आप जो पुस्तक सर्च कर रहे हो आज आपको प्राप्त हो जायेगी हम ऐसी आशा करते है आप अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें | डाउनलोड लिंक निचे दिया गया है  , PDF डाउनलोड करने के बाद उसे आप अपने कंप्यूटर या मोबाईल में सेव कर सकते है , और सम्पूर्ण अध्ययन कर सकते है | हम आपके लिए आशा करते है कि आप अपने ज्ञान के सागर में बढ़ोतरी करते रहे , आपको हमारा यह प्रयास कैसा लगा हमें जरूर साझा कीजिये |

आप यह पुस्तक pdfbank.in पर निःशुल्क पढ़ें अथवा डाउनलोड करें

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप Abhigyan Shakuntala Natak PDF / अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF डाउनलोड कर सकते हैं।

यहाँ क्लिक करें –   अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक डाउनलोड करें

पुस्तक स्रोत

अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF | Abhigyan Shakuntala Natak PDF in Hindi

अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF पुस्तक का एक मशीनी अंश

ब प्रभु दुष्यंत तुम्हारी रक्षाकरें । तिन देहियों से बहुबंन म- हाभ्ृत पंचरूप होने से यज्ञकरणसे होतरूपसे लोकपांलाश से विशेश्तेज से चंद्र सूयरूप से आउतनु से प्रपन्न युक्र । भृग ने कहा है । अग्नि वायु यम सूर्य इन्द्र वरुए चंद्र ओर कुबेर इनके अश होने से देवताओं के तेजको प्राप्तह आ इसी से सब प्राणियों को सतेज़ से तिरस्कार करता है ॥

यह राजा अब जो सृष्टिकर्ता की पहिली है इससे शकुंतला सूचितकी क्योंकि इतने कालतक इस सृष्टिके न होने से पहिली कही । जो विधिसे भोग विलासादि से हुत निषिक्न की गई सींब्रीगई । ही जो रेत बीरये तिस को धारणकरे सो तिसका गभ। होन्री इसकरके करव लिया। जो दो इससे अनसूया प्रियंबदा सखी दोनोकाल शापके अंतको (वि- धत्त)बोध कराती थी।

पतित्रताआदि गुणों से संसारको ब्याप के स्थित श्रति वार्ता से देश में गुण नाम तीनकरके शारईर शार- द्वत गौतमी इनसे ले जायीजाय ऐसी स्थित । [श्वतिविषयगुणा] एकपद है इससे गरभसहित विस शकुंतला को राजा दुष्यंत के द्वार जाना सूचित किया सबका बीजमूलभूत च॑कव तिल होने से भरत । तिसकी प्रकृति उत्पत्ति भरतकी उत्पत्ति। जिस से प्रार्णी प्राणवाले हैं भरत शकुंतला के साथ स्रपुर में आगमन सूचित किया इसीतरह वह दुष्येत आठ तनुसे रक्षाकरे ॥

आपको Abhigyan Shakuntala Natak PDF / अभिज्ञान शकुन्तला नाटक PDF डाउनलोड करने में असुविधा हो रही है या इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो हमें मेल करे. आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा मिली जानकारी पसंद आयी होगी यदि फिर भी कोई गलती आपको दिखती है या कोई सुझाव और सवाल आपके मन में होता है, तो आप हमे मेल के जरिये बता सकते हैं. हम पूरी कोशिश करेंगे आपको पूरी जानकारी देने की और आपके सुझावों के अनुसार काम करने की. धन्यवाद !!

%d bloggers like this: